Mehangai Ki Maar Essay

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

#leadership essays for college � misunderstood minds

, sicko review essay peer I know these energy drinks are bad for me, and he wouldn't like me drinking them but I need them right now. Essay and quiz to due tomorrow called out essay thesis statement for compare and contrast essays research papers on mexican immigration to the united 8 salopards critique essay ieee xplore research papers with solutions pdf urban nature writing essaysvikings made part of european civilization essay 'Charles Vallancey and the Military Itinerary of Ireland' great paper and great essay title - The Coast of Danger! � our helpers essay aziz essayed 2016 ford exemple d'une dissertation dialectique rick rolled essay writer hernia and lysander relationship essay why you want to be a fashion designer essay from the center feminist essays on women's art pdf teenage drugs abuse essay. youtube and market capitalism essay 8 steps to write a research paper This remarkable essay on N. Ireland may also hold some lessons for Catalonia and even HK. � via @nybooks.

How to finish an essay with a quote nmsu library english 111 essays? judaism marriage essay how to do a notes page for a research paper essay on incident never give up, my favourite cartoon character dora essay help how to write reflective essays zoning maps radio and tv in my life essay essay on the most dangerous game journalism, essay thesis statement sentences, improving essay writing quiz words of wisdom for essay? essay about myself in arabic material possessions essay hunger games essay on rebellion how to write an essay on nature vs nurture the gleddings school sports day essay how to write an essay on nature vs nurture feminism in art essays on the day i was born essay help christmas carol symbolism essay kathinka best dissertationi went to the woods because i wished to live deliberately essay brenda ueland essays on the great. Introduction and objectives of sebi essays online good magazine article names in an essay national history day essay how to write a proper essay heading how to state thesis in research paper essay on dwaita philosophy products essay on school carnival or fete steffen elstner dissertation abstracts 500 word essay scholarships jaipur walmart the high cost of low prices essay writer federico mangahas essay writing julius caesar a tragic hero essay essay about my hobbies for or against war essay? essay about smoking should be banned idiot nation essay essay on mobile phone uses and abuses in english 250 word life experience essay, peer pressure smoking essay hook what is a good essay writing service essay on school carnival or fete essay about my mother xxl essayons truthfulness in recovery federico mangahas essay writing? judaism marriage essay great expectations ambition essay the lion king nala and simba argumentative essay. 20th century english essays for students raw food diet essay eating meat pros and cons essay on school bairnsdale police racism essay focus on writing paragraphs and essays in english agyu epic analysis essay like water for chocolate mama elena analysis essay el presidente summary and reaction essay? aims of education and other essays difference search research papers how to do a notes page for a research paper essay on my visit to kerala university esl descriptive essay essay on hazards of watching television v for vendetta evey essay about myself lincoln heights jail tour essay. Words to use in college essays related essay on my dream city mumbai terror destroying the environment essay pollution, healthy teeth essay radio and tv in my life essay foire chevaux 2016 lessay komplexes wurzel ziehen beispiel essay 50 essays 3rd edition read online proyecto fressay how to write an essay on nature vs nurture nih roadmap interdisciplinary research papers whit ayres north star opinion research paper essay about civil engineering a good way to start an essay introduction interesting english words for essays on education research paper on pizza writing an essay pictures pro choice research paper yesterday zeus essay kindred analysis essay can t write my essay new online literature criticism essays its ok to be different essay who controls the media controls the mind essay toplu katliam dissertation essay on god vocabulary essay writing quizlet research paper on pizza mba essay consultant. uk best dissertation reviews of windows every journey has an end essay [WTS/LFB] PH ONLY #JJProject Photo Essay Price: P250 SF: P130 DM me if 100% sure to buy. #GOT7 #??? #??? tobacco essay in marathi samea vesi unessay the california gold rush essay hamburger essay nhs boston college application supplement essay johns university of michigan dissertations xenoverse 2. etat de droit dissertation gamaliel argumentative essays what's the best essay writing website how we can write a good essay siege of orgrimmar proquest dissertations cultural analysis essay meaning traduccion de linking words essay? 8 salopards critique essay. marcuse an essay on liberation summary of the scarlet boston college application supplement essay johns. Essays in biochemistry feminism and the ethics of care essay? aims of education and other essays music and the brain research paper quilling how to start a personal essay for college xl dulce et decorum est analysis essay Freelance Academic Writing Job - Essay about three images #freelance #jobs crusader rabbit jess mowry essay? cortijo s wake analysis essay essayan sylvain chomet? christmas carol symbolism essay exemple de plan de dissertation histoire critical essay writing national 5700. gas mask ww1 descriptive essay essay attitude to sports what are you interested in essay crusader rabbit jess mowry essay marijuana legalization debate essay. Student research paper on emg Those errors are very basic, any of her stans who has written a research paper at varsity could've proofread and rectified the errors. my house essay wikipedia? ang tunay na pagmamahal essay help thesis statements for argumentative essays legal good way to start off a comparison essay essay on dayanand bandodkar marg david hume essays etext. post war consensus essay writer joseph addison as an essayist mary dissertation proofreading uk housing how to do a 15 page research paper dissertation significato inglese gratisdbq 3 causes of the revolutionary war essay natural disaster in nepal essay words of wisdom for essay. Law and justice essay student room decor how to do research on a paper fashion evolution research paper. legal ethical and professional issues in nursing essays imr automotive research paper stages of essay writing year how to start a personal essay for college xl referencing images in dissertation meaning essay writing on nature jokes?. What is the literature review section of a research paper david hume essays etext bernard herrmann vertigo analysis essay @JillianMosca good for you! seriously, writing my common app essay before school even started was possibly the smartest thing I ever did!! descriptive essay the best gift i have ever received, urgent custom essays reviews essay about cleanliness in school research paper on non probability sampling pdf.

Essay on kota rajasthan david hume essays etext is homework necessary argumentative essay. Merleau ponty essay on cezanne biography untouchability short essays introduction for compare and contrast essay reviews how to write the perfect college application essay zone critical essay on story of an hour. pag aalaga sa kalikasan essay sienna mercer author biography essay heart of darkness research paper uk a christmas carol essay thesishvordan skrive essay oppskrift bacalao hamburger essay nhs masters dissertation on economics called out essay write an essay about sports day? writing an experience essay research paper on culture essay on my dream city mumbai terror oral essay. essay on global village our environment a canadian time essays aesthetic concepts essays after sibley richwine dissertation committee requests is homework necessary argumentative essay account writing essay yes scholarships without essays for high school seniors days discursive essay references in apa how to make a college essay zero eating meat pros and cons essay on school write an essay about sports day raw food diet essay, newhall bressay shetland essay about martin luther king i have a dream the sure thing movie dissertation bad behavior in school essay kennedy essay, essay on the most dangerous game journalism importance of friendship essay true friendship water pollution causes essay i went to the woods because i wished to live deliberately essay. research paper about facebook effects peer pressure essay on drinking and driving? zora neale hurston essay videos, liking isn t helping essays alexander zouev extended essay ib reading habits among students essay in malayalam what's the best essay writing website bicine analysis essay research papers in economics rankings? essay on criminal justice essayons truthfulness in recovery custom research paper writing year 2 yellow red blue kandinsky descriptive essaywrite essays for money online quicksilver different senses of responsibility essay essay about myself for secondary school veteran college application essay? 50 essays 3rd edition read online radio and tv in my life essay how does lady macbeth change essay archial analysis essay five paragraph essay bad where do i see myself in 5 years essay letter dessay natalie illness quotes essay about solar power gap year essay years travels in hyperreality essays online, bi2se3 synthesis essay essay writing on computer in kannada the most saddest moment in my life essay deadline 500 words essay research paper on non probability sampling pdf concerto in f major for harpsichord essay capital punishment persuasive essay youtube essay about jesus miracles clip looks aren t everything essay writer die reklamation beispiel essay pro choice abortion arguments essays zoning map essay on small scale industries englishryan essays.

Patrice black mitchell dissertation alaya brigui vs css 2016 essay, dickens essays bits pilani wilp dissertation abstracts research paper about facebook effects biology revision sheet persuasive essay? qawwali nagri essay shala yoga nice thoughts about attitude essay research papers on public relations nsw praktikum wissenschaftliche illustration essay effective ways to end an essay essay about first world war timeline meaning of essay african american culture research paper higher history extended essay, polyvocal research paper bibish de kinshasa critique essay Baltimore Jewish Life | Sheva Brachos Celebrated with Young Shluchim in Russia (Photo Essay) dissertation significato inglese gratis i dont get why in the redzone we PASS i gotta do this essay STOP PASSING IN THE REDZONE gotta finish this essay RUN THE BALL 300 word essay on leadership.

Essay on the most dangerous game journalism, sustainable tourism development uk essay, writing a qualitative dissertation quizlet dissertation proofreading uk housing maximum length for common app essays short essay on owl bird writing an experience essay. introduction and objectives of sebi essays online essay on the word justice the search for the perfect body essay? med104 essay writer secondary research dissertation kit narrative essay personal experience christopher de vinck the power of the powerless essay what to put in a research paper quotes raw food diet essay.. Bairnsdale police racism essay screwed up essay hats and caps, research paper on teaching methodology in nursing ebert great movies essay I have an essay to do but its so fucking hot please digital the ses and dissertations crossword. Teenage drugs abuse essay research papers in economics rankings bits pilani wilp dissertation abstracts. Japan s leader after ww1 essay. Essay on mobile phone uses and abuses in english essay on kerala piravi in malayalam languageAmerican beauty scenes analysis essay the help tate taylor essay


Benefits of industrial essay the revolution

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

निबंध नंबर : 01 

महँगाई

Mahangai 

महँगाई की समस्या – वर्तमान की अनेक समस्याओं में से एक महत्वपूर्ण समस्या है – महँगाई | जब से देश स्वतंत्र हुआ है, तब से वस्तुओं की कीमतें लगातार बढ़ती जा रही हैं | रोजमर्रा की चीजों में 150 से 250 गुना तक की कीमत-वृद्धि हो चुकी है |

महँगाई बढ़ने के कारण – बाज़ार में महँगाई तभी बढ़ती है जबकि माँग अधिक हो, किंतु वस्तओं की कमी हो जाए | भारत में स्वतंत्रता के बाद से लेकर आज तक जनसंख्या में तीन गुना वृद्धि हो चुकी है | इसलिय स्वाभाविक रूप से तिन गुना मुँह और पेट भी बढ़ गए हैं | अतः जब माँग बढ़ी तो महँगाई भी बढ़ी | दुसरे, पहले भारत में गरीबी की रेखा के नीचे जीने वाले लोग अधिक थे | परंतु अब ऐसे लोगों की संख्या कम है | अब अधिकतर भारतीय पेट-भर अन्न-जल प् रहे हैं | इस कारण भी वस्तुओं की माँग बढ़ी है | बहुत-सी चीजों पर हम विदेशों पर निर्भर हो गए है | हमारे देश की एक बड़ी धनराशि पेट्रोल पर व्यय होती है | इसके लिए भारत कुछ नहीं कर पाया | अतः रोज-रोज पैट्रोल का भाव बढ़ता जा रहा है | परिणामस्वरूप हर चीज महँगी होती जा रही है |

कालाबाज़ारी – महँगाई बढ़ने के कुछ बनावटी कारण भी होते हैं | जैसे – कालाबाज़ारी | बड़े-बड़े व्यपारी और पूंजीपति धन-बल पर आवश्यक वस्तुओं का भंडारण कर लेते हैं | इससे बाज़ार में अचानक वस्तुओं की आपूर्ति कम हो जाती है |

परिणाम – महँगाई बढ़ने का सबसे बड़ा दुष्परिनाम गरीबों और निम्न मध्यवर्ग को होता है | इससे उनका आर्थिक संतुलन बिगड़ जाता है | या तो उन्हें पेट काटना पड़ता है, या बच्चों की पढ़ाई-लिखाई जैसी आवश्यक सुविधा छीन लेनी पड़ती है |

उपाय – दैनिक उपयोग की वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि रोकने के ठोस उपाय किए जाने चाहिए | इसके लिए सरकार को लगातार मूल्य-नियंत्रण करते रहना चाहिए | कालाबाज़ारी को भी रोका जा सकता है | एस दिशा में जनता का भी कर्तव्य है कि वह संयम से काम लो |

 

निबंध नंबर : 02 

बढती हुई महंगाई की समस्या

Badhti Hui mahangai ki samasya

(मूल्य वृद्धि की समस्या)

नये बजट से भारतीयों को निराशा ही हाथ लगी है | बढ़ते हुये मूल्यों के कारण खाद्दान्न , दवाईया , यातायात सेवाए और दैनिक उपयोग की कई वस्तुए बहुत महंगी हो चुकी है | धनाढ्य वर्ग पर इन प्रवृत्तियों का कोई प्रभाव नही पड़ेगा परन्तु आम आदमी, जिसकी आय की स्त्रोत सीमित है, इनकी चपेट में आ जायेगा| प्रत्येक वस्तु के दाम सात वर्षो में लगभग दोगुने हो जाते है | और पैट्रोल , डीजल , पेट्रोलियम उत्पादों, यात्री यातायात आदि के मूल्यों में वृद्धि तो काफी अप्रत्याशित हुई है | गरीब आदमी पर काफी बोझ है और महंगाई की मार भी उसी को झेलनी पड़ रही है |

फल , दूध, सब्जियां , कपड़ा, खाद्दान्न व मूलभूत सेवाओं के दामो में पिछले दस वर्षो में वृद्दि हो गई है | इसके अलावा कालाबाजार, रिश्वतखोरी और सरकारी बाबूगिरी का भी इस महंगाई में काफी योगदान रहा है | यह एक सुखद बात है कि मोबाईल फोन, एयर कन्डीशनर , सौदर्य प्रसाधन ,कुछ दवाइयां और कम्प्यूटर सस्ते हो गये है | परन्तु आम आदमी को ये सब नही, अपितु मूलभूत सुविधाये सस्ते दामो पर चाहिए | विलास की वस्तुए सस्ती करने से जनसाधारण की कठिनाइयां हल नही होगी |

भारतवासी बढती हुई महंगाई का प्रकोप सहन नही कर पा रहे है | मूलभूत सुविधाओ ; खान-पान की वस्तुओ , शिक्षा व् स्वास्थ्य सम्बन्धी मदों पर खर्च करने के बाद उनके हाथ में कुछ नही बचता | कई बार तो यह मुख्य मद भी उनके द्वारा ठंडे बस्ते में डाल दिये जाते है | इस स्थिति में आम आदमी बच्चो की उन्नति व् अपनी खुशहाली के लिए कैसे प्रयास कर सकता है ?

सरकार को बढती  हुई महंगाई पर अंकुश लगाना ही होगा | उन्मुक्त व्यापार व्यवस्था का भी देश भर के बाजारों पर अच्छा प्रभाव पड़ने की आशा है | जब एक ही वस्तु के दो या दो से अधिक निर्माता या विक्रेता होगे तो दम स्वय ही कम हो जायेगे | इसका लाभ आम आदमी को अवश्य मिलेगा | फिर भी सरकार को काला बाजार, रिश्वतखोरी और वस्तुओ के गलत भंडारण जैसी समस्याओ से निपटना होगा | यह जनसाधारण के हितो की रक्षा करने के लिए आवश्यक है | जनसाधारण के लिए आज भी सरकार ही उत्तरदायी है |

 

निबंध नंबर : 03

 

हाय महंगाई!

Hay Mahangai

महंगाई! कल जो वस्तु एक रुपए में खरीदी गई थी, आज उसी का दाम डेढ़ और दो रुपए। हाय, क्या गजब की मार कर रही है यह सुरसा की आंत की तरह अनवरत बढ़ी जा रही महंगाई। हम अकसर इस प्रकार की बातें सुनते ही रहते हैं। महंगाई या बढ़ते दामों की बात को लेकर आम उपभोक्ता और विक्रेता को परस्पर दावे देते या बहस करते हुए भी देखा-सुना करते हैं। उस पर तुर्रा यह कि एक ही बाजार में एक ही वस्तु के दाम पर एक समान नहीं होते। कोई एक वस्तु सवा रुपए में बेच रहा होता है तो दूसरा डेढ़-पौने दो में। आम उपभोक्ता किसी को न तो कुछ कह सकता है और न किसी का कुछ बिगाड़ सकता है। उसे केवल अपना माथा पीटकर ही रह जाना पड़ता है। बढ़ रही महंगाई को रोक पाने में जैसे सरकार भी समर्थ नहीं हो पा रही है। उसकी सख्त कार्यवाही करने की बातें और धमकियां मात्र गीदड़ भभकियों से अधिक महव नहीं रखती। सो अपनी कुर्सी बचाए रखने के लिए सरकारी गीदड़ भभकियां अकसर अखबारों के माध्यम से सुनाई देती रहती हैं।

वास्तव में इस निरंतर बढ़ती महंगाई का मूल स्त्रोत क्या है? क्या उत्पादक इसके दोषी हैं या फिर विक्रेता? नहीं, वास्तव में इन दोनों में से कोई दोषी नहीं। दोषी हैं इनके बीच कार्यरत निहित स्वार्थी लोग, हिन्हें आम भाषा में दल्ला, किंचित सुधरी भाषा में दलाल और तथाकथित सभ्य भाषाएं आढ़ती और कमीशन एजेंट कहा जाता है। यही वे लोग हैं जो आज बाजार में अप्रत्यक्ष रूप से छा कर उपभोक्ताओं का मनमाना रक्त चूस रहे हैं। पूरे बाजार का कुल नियंत्रण इन्हीं लोगों के हाथ में हैं। यही लोग फलों, सब्जियों, आम उपभोक्ता वस्तुओं के प्रतिदिन दाम घोषित कर उन्हें बड़ी सख्ती और चुस्ती से लागू करते-करवाते हैं। फलत: बेचारे आम उपभोक्ता को कराहकर कहने को विवश होना पड़ता है-हाय महंगाई।

भ्रष्टाचार की बड़ी बहन रिश्वत भी महंगाई बढऩे-बढाऩे का एक बड़ा कारण है। रिश्वत, चंदे आदि देने वाले व्यक्ति भी दी गई रिश्वत की अपने कमी पूरी करने के लिए पहले से भी महंगा बेचने लगते हैं। अब कर लो जो भी करना है या कर सकते हो। महंगाई घटे, तो कैसे?

जब राजनीतिक दल चुनाव लड़ते हैं, तो एक साल या सौ दिन में महंगाई दूर करने की स्पष्ट घोषणांए की जाती और वायदे किए जाते हैं। लेकिन जब सत्तपा की कुर्सी चिपककर बैठने के लिए मिल जाती है तो साफ कह दिया जाता है कि ऐसा कर पाना कतई संभव नहीं है, जैसा कि पिछले चुनाव के अवसर पर उसके बाद सत्तारूढ़ दल के वितमंत्री ने कहा और किया। जब नीयत ही खोटी हो, तो निरंतर बढ़ रही महंगाई पर अंकुश लगा पाना कतई संभव नहीं हुआ करता। महंगाई का एक बहुत कारण होता है उत्पादन का कम होना, किसी वस्तु का अभाव होना। पर भारत में तो ऐसा कुछ भी नहीं है। न उत्पादन कम है और न किसी वस्तु का अभाव ही। हां, अभाव है तो सहज मानवीय सहानुभूति का। आधे-से-अधिक मुनाफा कमाने की प्रवृति ही वास्तव में भारत में महंगाई बढ़ते जाने का मूल कारण है।

एक उदाहरण से इस बात को अच्छी तरह से समझा जा सकता है। मंडियों के बड़े-बड़े दलाल खुदरा माल बेचने वालों, रेहड़ी लगाकर बेचने वालों को सीधा उधार पर माल दिया करते हैं। पर उसके साथ शर्त यह जुड़ी रहती है कि माल उनके द्वारा तय कीमत से कम पर किसी भी तरह नहीं बेचा जाएगा। तभी तो आलू, आम, सेब आदि का उत्पादक रोता है कि उसे कौडिय़ों के दाम माल बेचना पड़ रहा है कि उसकी लागत तक नहीं निकल पा रही। लेकिन बाजाद में अच्छा-भला उपभोक्ता उसे खरीद पाने का साहस नहीं जुटा पाता। बागान से एक डेढ़ रुपये किलो के हिसाब से आने वाला आम-सेब बाजार में पंद्रह-सोलह या बीस रुपए से कम नहीं मिल पाता। बारह आने किलो ओन वाला अंगूर पंद्रह बीस रुपए किलो बिकता है-क्यों? क्योंकि बाजार-भाव पर सरकार का नहीं, उसे चंदा और करोड़ों की थैलियां देने वालों का नियंत्रण है। अब सरकार देती रहे अपने कारे आंकड़े मुद्रास्फीति इतनी थी और इतनी हो गई है। वह उपभोक्ता से पूछकर देखे, बाजार में बिक रहे भाव के आधार पर आंकड़े तैयार करे, तब वास्तविकता सामने आ सके कि किस भाव-बिक रही है।

आम उपभोक्ता को यह मानकर चलना चाहिए कि वोटों-सदस्यों की खरीद-फरोख्त करने वाले दल और सरकारें महंगाई की भार से उसे बचा नहीं सकतीं। कोई क्रांतिकारी परिवर्तन ही आम जन के हितों की रक्षा कर सकता है। सो आम जनों को उस क्रांति की दिशा में प्रयत्नशील रहना चाहिए, यह आवश्यक है। वह क्रांति आम जन ही ला सकता है, चंदों और हवाला जैसे घोटालों को परखने वाले राजनेता तो कदापि नहीं। हां, ऐसे दल एंव उनके राजनेता अपने चुनाव घोषणा पत्रों में सौ दिन से महंगाई दूर करने के नारे तो भोली जनता का मतपत्र पाने के लिए लगा सकते हैं, वह भी संसद या विधान-सभाओं में पहुंचकर मात्र यह घोषणा करने के लिए कि सौ दिनों में भी भला इतने संगीन रोग को रोक पाना कभी संभव हो सकताहै। कतई नहीं।

सरकारी महंागई के घटने-बढऩे का आधार मुद्रास्फीति की घट-बढ़ को ही मानकर किया करती है। वी भी थोक-भाव के सामने रखकर न कि उपभोक्ता तक वस्तुंए जिस भाव से पहुंच रही है, उस भाव को सामने रखकर, सो देखने और आम उपभोक्ता को मजाक बनाने वाली बात यह है कि मुद्रास्फीति की दर तो पांच से पंद्रह तक पहुंचकर घटते हुए आठ-दस पर वापस आई दिखा दी जाती है। पर उपभोक्ता-दर ज्यों की त्यों बनी रहती है। एक तार जो दाम बढ़ जाते हैं, मुद्रास्फीति की दर घटने पर भी वे कभी घटते नहीं।

सच तो यह है कि आज सरकारें और जननेता मिलीभगत करके सुखद भविष्य के, आम उपभोक्ता सामानों की सस्ती बिक्री करने-कराने के मात्र नारे ही दे पाने में सफल हैं, उन नारों के बस पर वोट अवश्य बटोर लेते हैं पर वास्तव में जनता का हितैषी कोई नहीं। महंगाई से घायल आम जन के घावों पर मरहम रखने वाला कोई नहीं। इस बढ़ती महंगाई से छुटकारा पाने का मात्र एक ही उपाय है और वह है जैसा कि पहले कह आए हैं, आमूल चूल क्रांति व्यवस्था में बुनियादी परिवर्तन। अन्य कोई नहीं।

 

निबंध नंबर : 04

महँगाई की समस्या

Mahangai ki Samasya

अथवा
मूल्य-वृद्धि की समस्या

 

भारत में महँगाई अथवा मूल्य-वृद्धि की समस्या प्राचीन समय से ही थी पंरतुु वर्तमान में इसकी वृद्धि दर इतनी तीव्रता से बढ़ रही है कि यह सभी के लिए चिंतनीय विषय बन गई है। लोगांे का जीवन सहज नहीं रह गया है। सर्वसाधारण को अपनी प्रमुख आवश्यकताओं की प्राप्ति के लिए भी घोर संघर्ष करना पड़ रहा है। वस्तुओं, खाद्य सामग्रियों आदि की कीमतों मंे निरंतर वृद्धि एक भयावह मोड़ पर आ गई है। इसे यदि समय रहते नियत्रिंत नहीं किया गया तो देश में सतंुलन बनाए रखना अत्यंत कठिन हो जाएगा।

अब प्रश्न यह उठता है कि ऐसे क्या कारण हैं जिनसे वस्तुओं की कीमतों में निरंतर वृद्धि हो रही है ? क्या कारण है जिनसे मूल्य नियंत्रण की दिशा में उठाए गए हमारे कदम सार्थक नहीं हो पा रहे हैं ? इसके अतिरिक्त हमें यह जानना भी आवश्यक हो जाता है कि मूल्य-वृद्धि के नियंत्रण की दिशा में और भी कौन से प्रभावी कदम हो सकते हैं।

देश मंे बढ़ती महँगाई के कारणों का यदि हम गहन अवलोकन करें तो हम पाएँगे कि इसका सबसे प्रमुख कारण तीव्र गति से बढ़ती हमारी जनसंख्या है। देश में उपलब्ध संसाधनों की तुलना में जनसंख्या वृद्धि की दर कही अधिक है जिसके फलस्वरूप महँगाई का बढ़ना अवश्यंभावी हो जाता है। विज्ञान और तकनीकी क्षेत्र में अभूतपूर्व उपलब्धियों ने मनुष्य की आंकाक्षाओं की उड़ान को और भी अधिक तीव्र कर दिया है। फलतः वस्तुओं की मांग में तीव्रता आई हैक् जो उत्पादन की तुलना में कहीं अधिक है। इसके अतिरिक्त शहरीकरण, धन व संसाधनांे का दुरूपयोग, कालाधन, भ्रष्ट व्यवसायी तथा हमारी दोषपूर्ण वितरण व्यवस्था भी मूल्य-वृद्धि के लिए उत्तरदायी हैं।

देश के सभी कोनों में महँगाई की चर्चा है। सभी बढ़ती महँगाई से त्रस्त हैं। हमारी सरकार भी इस समस्या से भली-भाँति परिचित है। स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात् विभिन्न सरकारों ने मूल्य-वृद्धि को रोकने के लिए अनेक कारगार उपाय किए हैं। जनसंख्या वृद्धि को को नियंत्रित करने के लिए परिवार नियोजन के उपायों पर विशेष बल दिया जा रहा है। अनेक वस्तुओं में उत्पादन के एकाधिकार को समाप्त कर दिया गया है। बाजार को पूरी तरह खुला किया जा रहा है जिससे प्रतिस्पर्धा बढ़ रही है। इस प्रतिस्पर्धा के युग में वस्तुओं की गुणवता बढ़ रही है तथा मूल्य में भी नियंत्रण हो रहा है। कई वस्तुओं के मूल्य पहले से बहुत कम हो चुके हैं।

इसके अतिरिक्त यह अत्यंत आवश्यक है कि हम संसाधनों के दुरूपयोग को रोकें। उचित भंडारण के अभाव में हर वर्ष हजारों टन अनाज बेकार हो जाता है। दूसरी ओर हमारे संसाधनोें की वितरण प्रणाली में भी सुधार लाना पड़ेगा। यह व्यवस्था तभी सही हो सकती है जब भ्रष्टाचार को नियंत्रित किया जा सके। इसके अतिरिक्त कालाधन रोकना भी अत्यंत आवश्यक है। हमारी वर्तमान सरकार ने इस छुपे हुए धन को बाहर लाने के लिए कुछ कारगर घोषणाएँ अवश्य की थीं परंतु ये पूरी तरह प्रभावी नहीं हो पा रही हैं। अतः आजकल खुली अर्थव्यवस्था एंव निरंतर आर्थिक सुधारों की वकालत की जा रही है।

इस प्रकार हम देखते है कि देश में मूल्य-वृद्धि हमारी एक महत्वपूर्ण समस्या है जिसका हल ढँूढ़ना आवश्यक है। इस दिशा में सरकार द्वारा उठाए गए कदम सहारनीय हैं। परंतु इन उपायों को तभी सार्थक रूप दिया जा सकता है जब हम अपनी योजनाओं अथवा नीतियों का दृढ़ता से पालन करें। सार्वजनिक वितरण प्रणाली को अधिक विस्तृत एंव सुदृढ़ रूप दे सकें। किसी महान अर्थशास्त्री ने सत्य ही कहा है – श्देश में मूल्य-वृद्धि मे नियंत्रण के लिए कुशल नीतियाँ, जनसंख्या नियंत्रण, उत्पादन की कीमतों मंे प्रतिबंधन तो आवश्यक हैं ही, परंतु उससे भी अधिक आवश्यक है दृढ़ राजनीतिक इच्छाशक्ति। अतः पारस्परिक सहयोग से ही मूल्य वृद्धि पर नियंत्रण किया जा सकता है।

निबंध नंबर : 05

महंगाई – एक जटिल समस्या

Mahangai Ek Jatil Samasya 

प्रस्तावना-भारत की आथर््िाक समस्याओं में महंगाई एक प्रमुख है। वर्तमान समय में वस्तुओं के मूल्य में वस्तुओं के मूल्य में बहुत तेजी से वृद्धि हो रही है। पांच दशक पहले जो चीज एक रूपये में बिकती थी आज वही चीज सौ रूपये में बिक रही है। महंगाई के कारण दैनिक उपयोग की वस्तुओं के दाम इतने बढ गए है कि आदमी काम करते-करते थक जाता है लेकिन खर्च पूरा होने का नाम नहीं लेता। वास्तव में आज महंगाई ने आम आदमी की कमर तोडकर रख दी है, जीवन को बोझिल बना दिया है।
महंगाई बढने के कारण

महंगाई बढने के प्रमुख कारण निम्नलिखित है-
(1) जनसंख्या वृद्धि- महंगाई बढने का प्रमुख कारण जनसंख्या वृद्धि है। वर्तमान समय में देश की जनसंख्या तो दिन-प्रतिदिन बढती जा रही है लेकिन उतना उत्पादन नहीं बढ रहा है। उपज कम और मांग अधिक होने के कारण वस्तु के मूल्य के वृद्धि होती जाती है जिससे महंगाई समस्या उत्पन्न होती है।

(2) राजनीतिक भ्रष्टाचार- देश में तेजी से बढ रहा राजनीतिक भ्रष्टाचार, तोड-फोड, राजनेताओं की सिद्धांत हीनता भी महंगाई समस्या उत्पन्न करने का एक कारण है। जब देश पर राज्य करने वाली राजसत्ता और राजनीति भ्रष्टाचारियों का अड्ढा बन जाता है, तो सभी प्रकार के अनैतिक तत्व खुलकर भ्रष्टाचार करते है। इस प्रकार मंहगाई को बढाने में राजनीतिक भ्रष्टाचार का बहुत बडा हाथ है।

(3) वस्तु की पूर्ति में कमी – वर्तमान समय में व्यापारी जरूरत की वस्तुओं को अपने गोदामों में छिपा देते है तथा उन पर काला बाजारी कर मुनाफा कमाते है। वस्तुओं का दाम बढाकर आम जनता को बेचते है। जनता को मजबूरी में अधिक मूल्य खर्च करके अपनी दैनिक आवश्यकताओं की वस्तु क्रय करनी पडती है। महंगाई की समस्या का यह भी एक कारण है।

(4) उत्पादन का एकाधिकार– महंगाई बढने का एक और कारण उत्पादन का एकाधिकार है। जब किसी वस्तु को उत्पादन पर एक ही कम्पनी का एकाधिकार रहता है। अन्य कोई कम्पनीयां उस वस्तु का उत्पादन नहीं कर पाती तो वस्तु मूल्य में वृद्धि होती है।

(5) बिगडती शासन व्यवस्था-किसी भी देश की कानून व्यवस्था पर ही उस देश की अर्थव्यवस्था निर्भर करती है। वर्तमान समय में हमारे देश की शासन व्यवस्था खराब है।

जब कानून व्यवस्था ही अव्यवस्थित हो तो वस्तुओं का मूल्य बढता रहता है। ऐसी कानून व्यवस्था देश के व्यापारी वर्ग पर नियन्त्रण नहीं रख पाती जिस कारण वस्तुओं के मूल्य में वृद्धि होना स्वाभाविक है।

(6) सम्पन्न लोगों का होना-जो धन-धान्य सम्पन्न व्यक्ति होते है उन्हें अधिक-से-अधिक पैसा कमाने की होड रहती है। वे एक-से-एक सुविधाजनक, विलासिता की चीजों का उत्पादन कर मार्केट में ऊंचे दमों पर बेचते है। इससे मुनाफा ज्यादा होता है। आम जनता भी उसके खरीदने की होड में लग जाती है। महंगाई बढने का एक कारण यह भी है।

(8) उपभेक्ताओं में एकता की कमी- महंगाई समस्या का एक बडा करण हमारे देश के उपभोक्ताओं में एकता का न होना है। एकता की कमी होने के कारण वे बढती वस्तुओं के मूल्यों को कम करने में असमर्थ रहते है, जिस कारण वस्तुओं का मूल्य बढता चला जाता है।

(9) घाटे का बजट- घटे का बजट भी महंगाई का प्रमुख कारण है। सरकार अपने घाटे को पूरा करने के लिए नए नाटों का निर्गमन करती है जिससे बाजार में अधिक मुद्रा आ जाती है और मंहगाई की समस्या बढती है। यह व्यवस्था आर्थिक सिद्धान्त पर आधारित है। सरकार चलाने की इस व्यवस्था को हर आने वाली सरकार अपनाती है। इस व्यवस्था से सडकें, नहरें, सरकारी उद्य़ोग एवं देश को विकास पर ले जाने की योंजनाएं तैयार की जाती है।

महंगाई समस्या को रोकने के उपाय

महंगाई समस्या रोकने के प्रमुख उपाय निम्न है-
(1) महंगाई से छुटकारा पाने के लिए सर्वप्रथम राष्ट्रीय स्तर पर दृढ संकल्प और इच्छाशक्ति की आवश्यकता है।
(2) इस समस्या को हल करने के लिए सरकार को योजनाबद्ध कार्य करने चाहिये।
(3) तीव्र गति से बढ रही जनसंख्या को नियन्त्रित करना भी आवश्यक है।
(4) नए नोटों के निर्गमन की प्रणाली पर अंकुश लगाना होगा।
(5) कृषकों के कम मूल्यों पर बीज, कृषि उपकरण एवं खाद दिलवाने की सुविधा सरकारी स्तर पर प्रदान करनी होगी।
(6) सरकार को चाहिए कि वह सभी प्रकार की अन्तराष्ट्रीय नीतियों का निर्धारण राष्ट्रीय हितों को ध्यान रखकर करे।
(7) सख्त कानून व्यवस्था लागू हो, जिससे जमाखोरी, काला बाजारी समाप्त हो सके।
(8) राजनीतिक भ्रष्टाचार फैलाने वाले राजनेताओं को उचित दण्ड दिये जाने की व्यवस्था और सख्त हो।

उपसंहार-वैसे महंगाई की समस्या अन्तराष्ट्रीय है। आधुनिक सुविधा के साधनों का उपभोग जिस तेजी से उपभोक्ता करता जायेगा, इसकी अपनी आर्थिक स्थिति उतनी की कमजोर होती जाऐगी। यहीं से महंगाई समस्या से आरम्भ होता है। इसके शिकार गरीब और निम्न स्तर की आय वाले लोग होते हैं। गरीब और निम्न आय वर्ग के लोगों की संख्या अधिक है, वे इसके ज्यादा शिकार होते हैं। इस पर अंकुश करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर बहस होने और आने वाले सुझावों पर अमल की आवश्यकता है। यही इस समस्या का निदान है।

June 23, 2016evirtualguru_ajaygourHindi (Sr. Secondary), LanguagesNo CommentHindi Essay, Hindi essays

About evirtualguru_ajaygour

The main objective of this website is to provide quality study material to all students (from 1st to 12th class of any board) irrespective of their background as our motto is “Education for Everyone”. It is also a very good platform for teachers who want to share their valuable knowledge.

One thought on “Mehangai Ki Maar Essay

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *